Political Trends


 29, Mar 2022 10:01 AM     56

Role of digital media in elections

कार या बस में लगे झंडे, लाउडस्पीकर से प्रत्याशी को जिताने की अपील के साथ धुंआधार नारेबाजी और छोटे-छोटे प्लास्टिक या कागज के बिल्लों के लिए लपकते बच्चे, दो दशक पहले तक कुछ ऐसी ही होती थी चुनाव प्रचार की तस्वीर। 


पर अब यह तस्वीर लगभग पूरी तरह से बदल गई है और इसकी जगह ले ली है छह इंच के मोबाइल स्क्रीन ने। इस बदले तस्वीर के पीछे का कारण भी स्पष्ट है आज हर हाथ में एक मोबाइल फोन है और सोशल मीडिया के तमाम मंच Facebook, twitter, Instagram, Whatsap से भरे पड़े हैं। इसके साथ ही Youtube और Facebook के न्यूज पोर्टल भी खबरों को तेजी के साथ रियल टाइम में लाइव या अन्य माध्यमों से जनता तक पहुंचा रहे हैं। बीते लोकसभा चुनाव 2019 की बात करें या 2014 में मोदी लहर की तो डिजिटल माध्यम से होने वाले चुनावी प्रचार ने राजनीति की एक अलग तस्वीर जनता और राजनेताओं के सामने पेश की है। चाहे बात " मैं भी हूँ चौकीदार" की करें या "चौकीदार चोर है" इसकी, डिजिटल मीडिया और digital PR agency ने पार्टियों और उनके प्रत्याशियों का चुनावी एजेंडा जनता तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई है। आज के इस डिजिटल युग में डिजिटल मीडिया और advertising and public relations के माध्यम से चुनाव प्रचार कराना पार्टियों और उनके प्रत्याशियों के लिए उनकी चाहत नहीं जरुरत बन चुकी है। आये समझते हैं की आखिर क्यों जरुरी है digital PR agency और सोशल मीडिया चुनावी पार्टियों एवं उनके प्रत्याशियों के लिए। 




याद करिये आज से 20 साल पहले का चुनाव काल, जहां हर जगह छपी प्रचार सामग्री, पोस्टर, बैनर और लाउडस्पीकर लगे वाहन ही प्रचार का एकमात्र जरिया हुआ करते थे, लेकिन अब यह बहुत पीछे छूट गया है। क्या शहरी, क्या ग्रामीण, अब हर जगह चुनाव प्रचार का अभियान सोशल मीडिया पर फोकस नजर आता है। अगर आप एक चुनावी प्रत्याशी हैं या आपकी अपनी राजनीतिक पार्टी है तो मान लीजिये अगर एक परिवार में अगर चार सदस्य हैं तो जाहिर सी बात है चार स्मार्टफोन की मौजूदगी भी सुनिश्चित है पर टेलीविज़न या अखबार केवल एक ही होगा। तो आप खुद गौर कीजिये आपके चुनावी प्रचार का प्रभावी तरीका क्या हो सकता है डिजिटल मीडिया या अखबार और टेलीविज़न? जबाब भी आपके मन में स्पष्ट होगा डिजिटल मीडिया और कारण यह है की डिजिटल मीडिया को इस्तेमाल करने वालों की संख्या इलेक्ट्रॉनिक या प्रिंट मीडिया के मुकाबले सीधे चौगुनी है। 


Digital Media और advertising and public relation agency के माध्यम से आज आप अपना चुनावी विज्ञापन जन-जन तक विभिन्न माध्यमों के जरिये पहुंचा सकते हैं। जिसमें मुख्यतः ग्राफिक्स, वीडियो, कार्टून, फोटो, समाचारों के जरिये अपनी पार्टी या प्रत्याशी के पक्ष में सोशल मीडिया में माहौल बनाते हैं। तो वहीँ दूसरी ओर फेसबुक और यूट्यूब न्यूज पोर्टल के माध्यम से विपक्ष की खामियां, नेताओं के बयानों पर पलटवार और साथ ही आपके पक्ष में जनता की राय को तेजी के साथ बढ़ाया जाता है, जो जनता पर सीधा प्रभाव बनाती है। 


DG- People चुनावी पार्टियों और उनके प्रत्याशियों के चुनावी सफर को आसान बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में विपरीत परिस्थितियों के वावजूद भी हमारी Pr Agency ने 2 सीटों पर डिजिटल प्रचार कर कांग्रेस की नींव को सलामत रखा। बिहार विधानसभा चुनाव में जदयू को एक बार फिर सत्ता दिलाने में DG- People ने अपना अहम योगदान दिया है। अगर आप के भी पेज पर लाखों में हैं फॉलोवर पर पोस्ट लाइक्स ना के बराबर हैं या फिर आपके सोशल मीडिया पेज पर नहीं है इंगेजमेंट, करना चाहते हैं डिजिटल माध्यम से अपने प्रोफाइल को अपग्रेड या चुनावी प्रचार के लिए करवाना हो सोशल मीडिया कैंपेन आपकी सभी जरूरतों को पूरा करेगी देश की PR Agencies में अग्रणी, Advertisement and Political consultancy का जाना पहचाना नाम DG-People . अभी संपर्क करें और लोकसभा, विधानसभा व क्षेत्रीय चुनावों में अपनी दावेदारी को जीत में परिवर्तित करें।

Follow Us On

DGpeople, here to assist you...
Ask us anything.